बारिश

** पानी को उसने कुछ एसे है जाना, आँखोँ का आँसू और तन का पसीना.**

ये मिट्टी की खुशबू ,महकती बहारेँ
इनसे अलग और भी है नजारे.
जो मै देख पाती,तुम्हे भी बताउँ
सपनो से अलग कुछ हकीकत सुनाऊँ.
कहने को वो है हमारे ही जैसा
अगर कोइ फर्क है तो वो है बस पैसा.
बारिश उस पर कहर बन कर आती
बाढे टूटे से घर को बहाती.
असहाय सा वो कुछ कर ना पाता
कपडा और बर्तन सब पानी ले जाता.
उसके बच्चे भी अपनी किस्मत से लडते
अपनी आयु से पहले ही बेचारे बढते.
आखेँ उनकी सो नही पातीँ
रोटीयाँ जब उनके सपनोँ मे आतीँ.
मदद को होता माँ का दामन है फैला
नन्हे के हाथोँ मे राहत का थैला.
जब बाढेँ नहीँ थी तो सूखा पडा था
वो तब भी और अब भी भूखा खडा था!
हर मौसम मे उसकी यही है कहानी
पानी सी बहती उसकी जिन्दगानी…..

Published in: on अगस्त 19, 2006 at 9:08 पूर्वाह्न  Comments (8)  

The URI to TrackBack this entry is: https://rachanabajaj.wordpress.com/2006/08/19/barish/trackback/

RSS feed for comments on this post.

8 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. जब बाढेँ नहीँ थी तो सूखा पडा था
    वो तब भी और अब भी भूखा खडा था!
    हर मौसम मे उसकी यही है कहानी
    पानी सी बहती उसकी जिन्दगानी…..

    अति सुंदर , बारिश से उपजी त्रासदी को बखूबी उभारा है आपने इन पंक्तियों में

  2. बहुत सुन्दर रचना जी।

    अच्छी कविता लिखी है। आपका हिन्दी चिट्ठाजगत मे हार्दिक स्वागत है।

  3. मनीष जी और जीतू जी , आपको कविता पसन्द आई जानकर खुशी हुई.

  4. Hi Rachna ji
    Aap bahut acha likti hai …Kahan se sikha apne.
    Sanjay from freeplanet.wordpress.com

  5. hello sanjay,
    thanks for appriciation!!
    kanhaa se seekha?…..bada kathin sawal hai..pata nahi kanha se apane aap aa gaya!..

  6. Hi Again Rachna,
    Jaise bhi aya ho tumhe ,waise tum likhti bahut acha ho.
    “Yeh likhna nahin aasaan bas itna samaj lijiye ,……
    Hum to aapke deewane ho gaye hain”

    FEW RELATIONS IN EARTH NEVER DIE..
    Take first letter from each word of the above said statement &
    then u will get that unique word…
    FRIEND :=)
    Wanna be?
    Sanjay.

  7. Hi Rachna ji ,
    Isme Thanks ki kya baat hai aap acha likti hai yeh he such hai.
    Waise main IT se hoon isliye apko meri blog ki kuch post samaj main nahi ayege ,par aap meri Shayrai ko maje se pad sakti hai.
    http://freeplanet.wordpress.com/tag/entertainment/shayari/
    Waise aap ka mail id kya hai hai.Aap Yahoo chat use karti hai.
    Apka Deewana
    Sanjay

  8. Hi rachna ji .. Really nice.. kya haal hai .. aap online bhi nahi dikti


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: