बोलिये अपनी बोलियाँ……

..हिन्दी चिट्ठा जगत अब बहुत बडा हो चुका है और हम सब विभिन्न क्षेत्रों मे रहते हैं…हम सब अलग अलग भाषाएँ और अलग अलग बोलियाँ बोलते हैं…
मैने यहाँ  कुछ वाक्य लिखे हैं.  मै जानना चाहती हूँ कि इसे आपकी बोली मे किस प्रकार बोला जायेगा…
अगर आप इस वाक्य के अलावा कोई वाक्य लेना चाहें तो उसे पहले हिन्दी और फिर अपनी बोली मे लिख दें….
आप जिस क्षेत्र मे रहते है, उस क्षेत्र का नाम  और स्थानीय बोली   का नाम भी लिख दें तो अति उत्तम रहेगा..

वाक्य-

आप सब कैसे हैं? सब ठीक है ना?
आज मै तुम्हे एक कहानी सुनाने वाली हूँ…राम और सीता पति पत्नी थे…

इसे मेरी बोली यानि जम्बू या निमाडी गुजराती इस तरह कहेंगे-

तमी सब केवा छे? सब ठीक छे नी?
आज हूं तम्न एक कहानी सुनावणा वाळी छे..राम न सीता धणी बायको हुता..

खरगोन जिले मे बोली जाने वाली बोली निमाडी मे इस तरह-

कसा छे तम सब? सब ठीक छे नी?
आज हँउ तम्ख एक कथा सुनावणा वाळी छे..राम अरु सीता धणी बैरो था..

निमाड की ही आदिवासी जाति द्वारा बोली जाने वाली बारेली बोली मे इस तरह-
तुम्ही कस काई? वारू छे की?
आज़ मी तुमी एक वार्ता कईस..
राम अरु सीता डाहला डाहली से..

या

राम आणि सीता धनी बैरु से.

महाराष्ट्र के खान्देश क्षेत्र की एराणी बोली मे इस तरह –

कस काय? बर हाय ना?
आज म्या तुमास्नी एक गोष्ट सांगतू..
राम आणी सीता नवरा बायको होते….

इसके आगे आपसे आपके क्षेत्र की बोलियाँ सुनने की इच्छा है..बोलेंगे ना आप ?🙂

Published in: on अगस्त 13, 2008 at 3:31 अपराह्न  Comments (20)  

The URI to TrackBack this entry is: https://rachanabajaj.wordpress.com/2008/08/13/%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a5%87-%e0%a4%85%e0%a4%aa%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%81/trackback/

RSS feed for comments on this post.

20 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. भोजपूरी मे ये कुछ ऐसा बोला जायेगा….

    रऊआ कैसन बानी? सबे कुछु निमन बा नू?
    आज हम तोहरा के एगो कहानी सुनाये वाला बानी.. राम अवरू सीता जी पति पत्नि रहनी हां।

  2. पंजाबी मुल्तानी मिक्स🙂

    कि हाल है त्वाडा जी ? सब ठीक ठाक हेगा न ?
    अज मैं त्वानु एक कहानी सुनानी हाँ ..राम ते सीता घोट ते क्वार सी ..

  3. मेरी बोली तो हिन्दी ही है,राजस्थान में रहकर भी हिन्दी ही बोली हूँ,मगर फ़िर भी कोशिश करती हूँ लिखने की…
    थे सब किसा हो,के हाल है थौरो,
    आज मै थाने एक काह्णी सुनाण जारी हूँ,राम और सीता मोट्यार और लुगाई था
    मालूम नही सही लिखा की नही,जिन्हे राजस्थानी ढ़ंग से आती है वही बता सकेंगे…

  4. ठेठ पंजाबी मे….
    किदा जी, होर सुनाओ सब ठीक ठाक हे ना,
    ते सुनो मे तुहानु इक कहानी सुनादी हां, राम ते सीता आदमी तीमी सी…

  5. तमे बधाँ केम छो ? सर्वे कुशळ छे ने ?
    आजे हूँ, तमोने एक वार्ता सँभळाववानी छुँ ..राम अने सीता धणी धणियाणी हताँ.
    ये ठेठ गुजराती है
    .-लावण्या

  6. ओडिया : तमे सबु केमती अछ? आजी मु तमकू गोटे गल्प सुणेइबी… राम आऊ सीता स्वामी स्त्री थिले ।
    बांग्ला : तोमरा शबाई केमन आछो? तोमादेर आजके एकटी गल्प शोनाबो। राम आर सीता स्वामि-स्त्री ।

  7. हमारे क्षेत्र में अंग्रेजी बोली जाती है जी!!

    Hey Guys!! Whatzz up!! How are you doing?
    Let me tell ya a story! Ram & Sita were husband & wife.
    🙂

  8. bhai hum to wahi likh sakte the jo s.no. 1 pe garima ne likha hai bhojpuri ke aalawa aur koi dialect nahin aata mujhe🙂

  9. * आप सभी का शुक्रिया! कहानी और पति- पत्नी के लिये कितने अलग शब्द हैं!!

    @ समीर जी,

    ओ जी!!! कनाडा आपका क्षेत्र हो गया???
    हमारे लिये आपका क्षेत्र जबलपुर है! बुन्देलखंडी बोली बोल कर दिखाइये!🙂

  10. छत्तीसगढ़ी में –

    आप मन सब बने बने? सब्बो झन बने बने?
    आज में हर तोला एक कहानी सुनाहूं. राम अऊ सीता डौका डौकी रहीन…

  11. राजस्थानी ( मेवाड़-राजसमन्द जिला ) में कहा जाता है।
    आप सब कस्यान हो, सब ठीक है नी?
    आज मैं थाने एक कहाणी सुणा रह्यूं हूं, राम अने सीता धणी- लुगाई हा।

    राजस्थानी (मारवाड़ी )
    आप सघळा क्यान हो सा, सब मजां में है सा?
    आज मैं आपने एक कहानी सुणावुं हूं, राम अर सीता धणी लुगाई था।

    सुरती ( गुजराती)
    तमे बधा केम छो? मजा मां छो ने?
    हूँ आज तमने बधा ने वार्ता संभळावूं छूं, राम अने सीता पति-पत्नि हता।

    तेलुगु
    नूवू एम उन्टावा? बागुनावा?
    ( तेलुगु इतनी ही आती है🙂 )

  12. मगही बोली मे इस तरह-

    आप सब कईसन हहूँ? सब ठीक हव ना
    आज हम तोरा एक ठो कहानी सुनावे वला हुव
    राम आऊ सीता पति पत्नी हलथिन

    –विकास.

  13. Rachana ji sabse pehale to mein aapka shukriya ada karna chahoongi ke aapne humein yaad kiya
    woh bhi swatantra diwas ke avsar per🙂
    to aapko aur sabhi Hindustaniyon ko meri taraf se “swatantra diwas ki shubhkamnayein”

    Mein aapko South Indian ke in do bhashaon ka maza chakhaoongi …Malayalam, aur Tamil,

    “Ningal ellavarum engane onndu? Ellavarum sukham alle?
    Inn yaan ningalku oru kada paranju taraan poguvannu…ramanum seeteyum pharayeyum parthavum
    aayirrunu…”

    (Kerala mein stri ko jyada mehatva hai isiliye pati- patni ki jagah patni aur pati kehane ka riwaz hai
    jise mein yahan nibha rahi hoon🙂 )

    “Ningal ellarum epaddi erikengalama? Ellarum saukhyama taane?
    Indekya naan oongalku oru kada solladakupore….ramanum seetavum purushanum pontatiyum irandadu…”

    Umeed hai aap parh payengi ise🙂
    Khush rahein sada
    Vande Mataram

  14. अच्छा है यह।

    कानपुर के आसपास कनौजी बोली जाती है।

    सब जने कइस हैं? सब ठीक(नीक) हैं न!

    आज तुम्हैं एक कहानी सुनावैं जा रही हैं- राम औ सीता दुल्हा दुल्हिन रहैं।

  15. मेरा मायका बोकारो , झारखंड में है। वैसे तो मैं हिन्दी ही बोलती हूं ,पर यहां यह बात खोरठा में इस तरह बोली जाएगी—.
    तोहनी कैसन हाय। सब ठीक-ठाक ने। हम तोहनी के एक कहानी सुनैबो। राम और सीता मरद मेहरारू हलथिन।
    मेरा ससुराल दरभंगा बिहार में है। यह बात मैथिली में इस तरह बोली जाएगी—.
    आहां सब केहन छ। आज हम आहां सब के कहानी सुनैबो। राम और सीता स्वामी स्त्री छलथिन।

  16. Hello Rachana…

    An interesting Blog!!

    I am giving the traslation in Malayalam hereunder..

    ” Ningalkkellaavarkum sukham thanne alle? Njan innu ningalkku oru katha paranju tharuvaan povukayaanu. Raamanum Seethayum Bhaarya-Bharthaakkanmaar aayirunnu..”

    Hope this is okay! Keep up the great work!

  17. शौबाई कैमोन आछो? ठीक आछो तो? आज आमी एक्टा गौल्पो शोनाबो। राम आर शीता श्वामि-स्त्री छिलेन।

    मेरी ज़ुबां..

  18. bahut din baad aai lekin fir bhi apna gyan bagharu.ngi zarur… meri matri bhasha hai awadhi…isme translation hoga

    aap kaeesan haee.n, sab theek baay na, aaj ham tuhai.n ek kahani sunae jaat haee. ram au seeta mard, mehararoo rahin

    aur ab telugu jaha.n maine apne jeevan ka ek varsha bitaya

    meeru andaru ela unnaru, bagh unaaru, eeroj nainu mee ku katha vinutustunanu, ram, seeta bhartalu bharya….

    not very confirm par aisa hi kuchh hoga shayad…!

  19. ** आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!!

    मेरे मित्र संजय ने तीन और बोलियो‍ मे अनुवाद बताया है, जो इस तरह है—

    मालवी–

    थम सब कसा हो ? सब हव तो है ?
    आज मैं तमारे एक बारता सुणावां वाली हूं…. राम ने सीता लाड़ा लाड़ी था…

    मेवाड़ी—

    आप सब किस तर हो ? सब राजी खुशी है ना ?
    आज मैं थाने एक कहाणी सुणावो चाउं…. राम सीता धणी लुगाई हा….

    बुंदेली—

    आप औरें कैसन हो ? सब राजी खुसी तो है ?

    आज मैं आप ओरों को एक सुनावो चाहत हूं …. राम और सीता लोग लुगाई हते …
    —-

    बहुत बहुत शुक्रिया संजय!

  20. शुक्रिया रचना ! इसे पढ़ना अच्‍छा लगा….. और लिखें, खूब लिखें ….


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: