एक परिचय….

आईये आपको आज मिलवाती हूं मेरी दीदी से.. . जिन्हे अन्तर्जाल की दुनिया मे आप एक ब्लॊगर के रूप मे ’अर्चना चावजी’ के नाम से जानते हैं, जो “मेरे मन की” नामक ब्लॊग मे अपने मन की लिखती हैं….🙂 ११ दिसंबर २००८ को उन्होने अपनी पहली पोस्ट लिखी और तब से अब तक २०६ पोस्ट लिख चुकी हैं! .. .. खूब जम कर लिख रही है.. दिल से लिख रही हैं.. गाने का उन्हे बेहद शौक है सो गाने भी सुने ही होंगे आपने! करीब ६० लोग जाहिर तौर पर उनके शुभ चिन्तक हैं और जिन्होने जाहिर नही किया है, ऐसे अनगिनत!

अब उनके बारे मे वे बातें जिन्हे आप नही जानते… मेरे माता पिता की शादी के करीब ८ वर्ष बाद मेरी दीदी का जन्म हुआ इसलिये वे बेहद लाडली रही…. वे मोहल्ले बल्कि गांव भर मे सबकी लाडली रही.. घर से कुछ ही दूर बाजार हुआ करता था, जहां से परिचित दुकानदार उन्हे हर दिन काजु , किशमिश इत्यादी बढिया बढिया खाने की चीजें देते.🙂 ” झिगझाग ” नामक दुकान वाला दर्जी उनके लिये सुन्दर सुन्दर फ़्रॊक सिलता और चुन्नीलाल तांगे वाले के तांगे मे बैठ कर वे स्कूल जाती….. बाल मन्दिर से ही कहानी, कविता सुनाने की, नाच की प्रतियोगिताओं मे भाग लेती और जीतती भी!

जब वे बडी हुई तो उनका मन पढाई मे कम और खेल मे ज्यादा लगने लगा जिसके बारे मे उन्होने खुद लिखा है यहां… और मैने भी लिखा था एक बार —

***
अब मिलिये मेरी चैम्पियन दीदी से!
ये भी ज्यादातर खेलों की माहिर खिलाडी हैं🙂 एक बार स्कूल मे इनका अकेले का चयन, पहले संभाग स्तर पर और फिर राज्य स्तर पर एथलेटिक्स प्रतियोगिता के लिये हो गया. बहुत दूर दूसरे शहर मे खेलने जाना था..लडकियों मे ये अकेली थीं अत: लडकों की टीम और उनके शिक्षक के साथ ही जाना था.. माँ को थोडी चिन्ता थी, लेकिन दादी ने भेज दिया…वहाँ उन्होने एथलेटिक्स (लम्बी कूद, ऊँची कूद, भाला फेंक, डिस्क थ्रो और गोला फेंक) वहाँ उन्होने एथलेटिक्स (लम्बी कूद, ऊँची कूद, भाला फेंक, डिस्क थ्रो और गोला फेंक) की राज्यस्तरीय चैम्पियनशिप जीती…

अब भी से अपने स्कूल के बच्चों को उसी जोश से खिलवाती हैं..उनके बेटे-बेटी ने भी परम्परा बरकरार रखी है..बेटी राष्ट्रीय स्तर तक गोताखोरी कर चुकी है..

उनके खिलाडी होने और हारने-जीतने की हिम्मत उन्हे जिन्दगी मे भी काम आई जब एक दुर्घटना के बाद उनके पति साढे तीन साल तक कोमा मे रहे, तब अपने नन्हे बच्चों के साथ हौसले से आगे बढीं….
******

अपनी विज्ञान की स्नातक की पढाई के बाद उन्होने कानून की स्नातक की पढाई की… उसकी कक्षा शाम की होती थी तो दोपहर को उन्होने सिलाई का डिप्लोमा हासिल कर लिया विशेष योग्यता के साथ! मेरे लिये उन्होने बहुत से सुन्दर कपडे सिले, और कढाई किये… उन्होने ढेरों स्वेटर बानाए… हमारे परिवार मे हर छोटे से लेकर बडे तक हर किसी ने उनका बनाया स्वेटर जरूर पहना है.. यहां तक कि कई रिश्तेदारों के बच्चों ने भी उनके बनाये स्वेटर पहने हैं!

हर तरह के दीवार पर लगाने वाले फ़्रेम उन्होने बनाये…

जब मै प्राथमिक स्कूल मे थी तब मेरी दीदी उच्चतर माध्यमिक स्कूल मे थी… उन दिनो हमारे घर मे राजदूत मोटर साइकिल (जिसे उन दिनो फ़ट्फ़टी कहा जाता था🙂 ) थी .. मेरी दीदी वो चला लेती थी जो हमारे गांव मे अजूबा सा था .. मुझे वे कभी कभी स्कूल छोडने जाती तो मै गर्व से फ़ूली नही समाती🙂 ….

उन दिनो हमारे घर मे गाय भैंस भी हुआ करती थी… मेरी दीदी भैंस का दूध निकालना भी जानती थी मेरे भाईयों की तरह ही वे भी एक बाल्टी भरकर दूध निकाल लेती थी…..

कुल मिलाकर यही कहूंगी कि ऐसा शायद ही कोई काम है जो मेरी दीदी ने नही किया हो या नही कर पाये…. अब भी हर नया काम सीखने को वो हमेशा उत्सुक रह्ती हैं…
मुझे जो थोडा बहुत काम आता है वो मैने उन्ही से सीखा है…

अपनी स्कूल मे वे सभी की बेहद चहेती शिक्षिका हैं… और घर मे भी सभी बच्चों की सबसे पसंदीदा बुआ या मौसी!

इन चित्रों मे हमारी मॊड्ल लडकियों ने जो क्रोशे से धागे से बने टॊप पहने हैं वो सब
दीदी ने ही बनाये हैं!

ये मेरी दीदी ने सिला है…

और ये भी उन्होने बनाया है.🙂


——-

अन्त मे आज के इस खास दिन उनके लिये ईश्वर से एक यही प्रार्थना है कि उनकी बहुत परिक्षाएं हो चुकी अब और नही.. अब उन्हे आगे की जिन्दगी मे आपाधापी और संघर्ष नही बल्कि संतोष और सुकून मिले!!

——

Published in: on अक्टूबर 25, 2010 at 12:50 पूर्वाह्न  Comments (12)  

The URI to TrackBack this entry is: https://rachanabajaj.wordpress.com/2010/10/25/%e0%a4%8f%e0%a4%95-%e0%a4%aa%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%9a%e0%a4%af/trackback/

RSS feed for comments on this post.

12 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. बहुत अच्छा संस्मरण और परिचय लिखा है दीदीजी का। उनकी आवाज का प्रशंसक तो मैं क्या बहुत से लोग हैं। उनका विस्तार से परिचय जानकर बहुत अच्छा लगा। दीदीजी को जन्मदिन की मंगलकामनायें।

    मुझे बहुत खुशी है कि बहुत दिन बाद आपने खुले मन से लिखना शुरु किया। बहुत अच्छा लिखा। ऐसे ही लिखती रहें।

    लेख के साथ के चित्र भी बहुत अच्छे लगे।🙂

  2. आपकी दीदी तो आलराऊंडर हैं। आवाज से और कलम से तो हम परिचिते थे ही, बाकी सब आपने बता दिया।
    हमारी तरफ़ से भी जन्मदिन की असंख्य शुभकामनायें।
    पार्टी आप ही ले लीजियेगा हमारे हिस्से की भी।
    ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि अर्चना जी व उनके परिवार के लिये आने वाला समय शुभ एवं मंगलमय हो।

  3. प्रिय रचना, क्या लिखू तुमने इतना कुछ लिख दिया …जो मै खुद ही भूल चुकी थी…याद दिलाने का शुक्रिया…..पापा को चरणस्पर्श,दीपक जी को नमस्ते ,निशी को और मेरे अन्य मॉडलों को प्यार….जो अपना फ़ोटो तुम्हे नहीं भेज पाये उन्हे भी….और इस पोस्ट को लगाने मे तुम्हारी जिन्होने मदद की उन्हें भी

  4. धन्यवाद अनूप जी व संजय जी ….

  5. दिल की समस्त भावनाएं उड़ेल दी आपने इस पोस्ट में।
    बहुत कम लोग होते हैं ऐसे बिरले जो बहुत सारी विद्याओं में प्रवीण होते हैं।

    मेरी ढेर सारी शुभकामनाएं आप सभी को।
    अर्चना जी को जन्म दिन की एक बार फ़िर से ढेर सारी बधाई।

  6. अच्छा लगा आपकी दीदी के बारे जानना, सुनना!!

    बहुत गुणी हैं.

    उनको जन्म दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.


  7. आपकी दीदी के बारे में मैं भी कुछ बताऊँ …

    बहुत कम लोग इस दुनियां में ऐसे होते हैं जो बिना कुछ चाहे मुफ्त में दूसरों की मदद करने निकलें ! निस्संदेह उनकी आवाज बहुत मीठी है ! उनके गाने के लिए गीतों की कोई कमी नहीं है बोलीवुड में कोई मशहूर गाना गाकर रिकार्ड कर सकती थीं !

    मगर उन्होंने गाने के लिए अनजान लोगों के गाने चुने जिन्हें कोई पूछता भी नहीं था ! यह एक दुष्कर और हिम्मत का कार्य था जिसमें उन्हें तारीफ़ कम और आलोचना का शिकार होना पड़ा होगा ! ऐसे कार्यों में औरों की बुराई मिली होगी जिनका गाना वो नहीं गा पायीं !

    वे एक ऐसा कार्य करने निकली हैं जिसपर आज तक शायद ही कोई चला होगा ! ब्लाग जगत में जब जब निस्वार्थ कार्य की चर्चा होगी आपकी दीदी का नाम अवश्य आएगा !

    आपकी दीदी को उनके जन्मदिन पर मेरी हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर उन्हें हमेशा हँसता रहे !

  8. इस ब्‍लाग जगत में बहुत ही अद्भुत व्‍यक्तित्‍व से मैं अभी तक अनजान हूँ, आज ऐसे ही व्‍यक्तित्‍व से परिचय पाकर खुश हूँ। शुभकामनाएं।

  9. प्रेम से करना “गजानन-लक्ष्मी” आराधना।
    आज होनी चाहिए “माँ शारदे” की साधना।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

  10. man ke bare me janne ki ichha hai

  11. आप सभी की टिप्पणियों एवं शुभकाम्नाओं के लिये खूब सारा धन्यवाद!🙂

  12. वाह.. बहुत सारी नई बातें बताईं आपने..
    अर्चना दीदी की आवाज का तो मैं भी फैन हूँ.
    फेसबुक पर उनका लिखा पढ़कर महसूस होता है कि बेहद ख़ूबसूरत ह्रदय और व्यक्तित्व रखती हैं वे..
    उनको जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: