किसे पता है……….

आज, अभी ये पल है अपना,
क्या होगा कल किसे पता है..

कर्म करें, ये धर्म है अपना,
क्या होगा फल किसे पता है..

जीवन है तो सुख -दुख होंगे,
कितने, कब -कब, किसे पता है..

जीवित हैं तो मृत्यु होगी,
किस पल होगी किसे पता है …..

सपने देखो, सब कहते हैं,
सच भी होंगे किसे पता है…

जो होना है, वो होता है,
होना क्या है किसे पता है…

Published in: on जुलाई 3, 2013 at 9:36 पूर्वाह्न  Comments (4)