हे ईश्वर!

प्रार्थना …

हे ईश्वर! बस इतना कर दो, जीवन मे कुछ अवसर भर दो!

सुख-सुविधा और धन-दौलत, इन सबकी मुझको चाह नही,
कांटों की राह पर चलता हूं, पर मुंह से निकली आह नही!
मुश्किल से कब डरता हूं मै, पर उनको थोड़ा कम कर दो!
हे ईश्वर! बस इतना कर दो..

काले सपनो को लिये खड़ी ये रात कभी तो जायेगी,
जिस दिन मुझको भी खुशी मिले, वो सुबह कभी तो आयेगी!
काया से कब थकता हूं मै, मन मे हिम्मत हो ये वर दो!
हे ईश्वर! बस इतना कर दो …

-रचना.

Advertisements
Published in: on अगस्त 9, 2013 at 10:13 अपराह्न  टिप्पणी करे